सेक्सी स्टोरी छत्तीसगढ़ की देसी गर्ल की चूत चुदाई की बेकरारी की

यह मेरी पहली सेक्सी स्टोरी है। आज मैं इसे आप सब से शेयर कर रहा हूँ.. मुझे उम्मीद है कि आपको ये सेक्सी स्टोरी पसंद आएगी।

मेरा नाम राजकुमार है.. मैं कोरबा, छत्तीसगढ़ से हूँ। मैं अन्तर्वासना का बहुत समय से पाठक हूँ.

मैं एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ। मुझे सेक्स करने में बहुत अच्छा लगता है, इसलिए मैं हमेशा लड़कियों की ताक में रहता हूँ। मेरा लंड लंबा और मोटा है.. और ये किसी प्यासी बुर को शांत करने के लिए औसत से बहुत बड़ा है।

मैं अपनी कम्पनी के काम से ज्यादा समय बाहर ही रहता था। एक बार मैं कम्पनी के काम से बाहर ‘सकती’ गया हुआ था, वहाँ एक कस्टमर से मिलने उसके घर गया। उसका घर एक छोटे से गाँव में था।

मैंने उस कस्टमर के घर जा कर उसके बारे में पता किया, तो पता चला कि वो घर से बाहर गया हुआ है। मैं कुछ समय उसके घर के बाहर ही बैठ कर उसका इन्तजार करने लगा।

कुछ समय बाद सामने के नल पर एक काली सी लड़की नहाते हुए नज़र आई, उसका बदन पूरी तरह से पानी से भीगा हुआ था। उसे यूं देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया। मुझे ऐसा लग रहा था कि अभी पकड़ कर साली को वहीं चोद दूँ। लेकिन पराया गाँव होने के कारण मुझे अपने आपको कंट्रोल करना पड़ा।

अब मेरे लंड महाराज को कौन समझाए.. उनको तो बस उसकी चूत का छेद नज़र आ रहा था और किसी भी तरह उस लड़की की चूत में घुसने के लिए मचल रहे थे। मैंने अपने आप पर काबू पाते हुए उस लड़की की ओर कदम बढ़ा दिए। जैसे-जैसे मैं उसके नज़दीक जा रहा था.. वैसे-वैसे मेरी धड़कनें तेज होती जा रही थीं। मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं पागल होकर उसे खुले आम ही चोद ना डालूँ।

मैंने उसके पास जाकर उससे उसका नाम पूछा तो उसने अपना नाम अनिता बताया और कहा- जिसका आप इन्तजार कर रहे हो वो मेरे भैया हैं और कई दिनों से बाहर हैं।

यह सुनकर मेरा चेहरा कुछ खिल गया क्योंकि मुझे उससे बात करने का मौका मिल गया था।

मैं उसे ध्यान से देखने लगा, उसका साइज़ 32-32-34 का रहा होगा। मैंने उससे उसके भाई के बहाने कुछ बात की और उससे उसका नम्बर माँगा तो उसने बताया कि उसके पास मोबाइल नहीं है।

लेकिन फिर भी मैंने उसे अपना नंबर दे कर कॉल करने के लिए बोला और उसके भीगे हुए जिस्म को घूरते हुए वहाँ से चला गया। वो भी कुछ मुस्कुरा रही थी।

मेरे मन में पूर रास्ते बस उसी के ख्याल आते रहे कि कब उसका फोन चुदवाने के लिए आए और मैं उसे चोद कर अपना सपना पूरा करूँ।

अपने ऑफिस में अपने कम में बिज़ी हो गया। शाम को एक अनजान नम्बर से कॉल आया, मैंने बात की तो पता चला कि ये उसी लड़की का फोन है, जिसके सपने मैं सुबह से देख रहा था। मैं तो ख़ुशी के मारे पागल हुए जा रहा था। मैंने उसके बारे में पूछा और अपने बारे में बताया और बाद में पता चला कि ये उसकी सहेली का नम्बर है।

फिर हमारी ऐसे ही बातें चलने लगीं। शायद आग दोनों तरफ लगी थी.

. आख़िर कब तक वो अपने आपको रोक पाती। इसी लिए उसने आज अपने प्यार का इज़हार कर ही दिया। मैंने भी तुरंत ही उसे ‘हाँ’ कह दिया और मोबाइल पर ही उसे चूमने लगा। वो गर्म साँसें लेने लगी, जिससे पता चल गया था कि वो चुदासी हो उठी है।

मैंने पूछा- क्या गर्म हो गई हो? तो उसने कहा- हाँ.. और यदि मुझे गर्म कर रहे तो ठंडी भी तुम्हीं करोगे।

कुछ देर तक सेक्स चैट चलती रही और हम दोनों फोन पर ही अपना अपना पानी निकाल कर शांत हो गए।

अब उसने मुझे 2 दिनों बाद अपने घर बुलाया। मैं तय समय पर उसके घर पहुँच गया। उसके घर में उसकी अंधी दादी के सिवाए कोई नहीं था। जब मैं उसके घर पहुँचा, तो वहाँ एक कमरे में मेरे रुकने का इंतजार कर दिया था।

उसने इस वक्त सलवार सूट पहना हुआ था। मैं उसके पास बैठ गया और उसकी जाँघ पर अपना हाथ रख दिया, वो थोड़ा शर्मा कर साइड में खिसक गई।

मैं भी उसकी तरफ खिसक गया और उसको जोर से पकड़ लिया। मैं उसके जिस्म को अपनी आँखों से चोदने लगा। उस लड़की का जिस्म काला था, लेकिन पूरी तरह से कसा हुआ था। उसकी चुची अपनी जगह पर ऐसी तनी हुई थीं.. देख कर लग रहा था जैसे कि इनको किसी ने दबाने या सहलाने की कोशिश ही ना की हो।

उसके करीब होकर मैंने अपना काबू खो दिया था। मैं जल्दी से अपना लंड उसकी काली सी बुर में घुसा कर उसकी चूत फाड़ना चाहता था।

मैंने धीरे से उसे अपने पास खींचा और अपनी बाँहों में भर लिया। अब मैं उसकी छाती को अपनी छाती से मसलने लगा था, बड़ी शान्ति मिल रही थी।

क्या मस्त चूचियाँ थीं उसकी.. दोस्तो, मैं बता नहीं सकता, मुझे ऐसा लग रहा था जैसे किसी ने उसकी छाती पर दो उलटे कटोरे चिपका दिए हों।

मैंने अपने होंठों को उसके होंठों पर रख दिए और उसे जोर-जोर से चूसने लगा। वो भी मेरा साथ देने लगी और उसकी गर्म साँसें जोर जोर से चलने लगीं।

मेरा हाथ उसके काले बालों को खोलता हुआ, उसके गालों से होता हुआ.. उसकी छाती पर जा रुका और उसके कुरते को उसके बदन से अलग करके दूर फेंक दिया। उसकी चुची छोटी से ब्रा में क़ैद थीं जिन्हें मैंने कुछ पलों में आज़ाद कर दिया।

अब उसकी एकदम स्थिर और तनी हुई नंगी चुची मेरे हाथों में थीं और मैं उन्हें जोर-जोर से मसले जा रहा था। वो गर्म सांसों के साथ और गर्म होती जा रही थी।

मैंने तुरंत ही अपनी टी-शर्ट निकाल फेंकी और उसकी नंगी छाती को अपनी छाती से लगा लिया। मैं उसको चूमते हुए उसकी चुची को अपने मर्दाना सीने की कठोरता से जोर-जोर से रगड़ने लगा। यह हिंदी सेक्सी स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

इसी के साथ अगले पलों में मैं अपने होंठों से उसके सिर से लेकर पाँव तक उसकी चुम्मा-चुदाई करने लगा। हाथों से उसके शरीर को रगड़ते हुए उसके पजामे को उतार कर फेंक कर उसे पेंटी छोड़ कर पूरा नंगी कर दिया। इसके बाद मैंने उसकी पेंटी में अपना हाथ घुसा दिया और उसे सहलाने लगा।

अपनी कोरी चूत पर मेरे हाथ के स्पर्श से वो छटपटाने लगी और कहने लगी- अह.
. उम्म्ह… अहह… हय… याह… चोद डालो.. आज मुझे अपनी बना लो।

एक लड़की की मुख से ऐसी बातों को सुनकर मैं जोश में आ गया और उसकी पेंटी के साथ अपने पूरे कपड़े उतार कर फेंक दिए और नंगा हो गया।

अब मैं अपने मूसल लंड को उसकी चूत के ऊपर रगड़ने लगा और उसे गर्म कर के तड़पाने लगा।

वो गांड उचका कर गाली देकर मुझे चोदने के लिए बोलने लगी- अब चोद भी दे भोसड़ी के.. मत तड़फा साले..

उसकी गर्म और चुदासी हालत देख कर मैं उसको चोदने के लिए तैयार हो गया।

लेकिन उससे पहले मैंने उससे अपने लंड को चुसवाया और उसकी चूत में उंगली पेल उसकी चूत को और ज़्यादा गीला कर दिया.. ताकि मेरा लंड आसानी से उसकी बुर में घुस जाए।

थोड़ी देर बाद मैंने अपना लंड उसके मुँह से निकाल कर उसकी चूत के मुँह पर लगाया और उसके दोनों पाँव को फ़ैला कर एक जोर का धक्का दे मारा।

मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत को खोलता हुआ उसकी चूत में घुस गया। उसकी तो जैसे साँसें ही रुक गई हों.. आँखों की पुतलियाँ फ़ैल गईं और उसकी आवाज गले में ही ठहर गई।

मैं थोड़ा रुक कर उससे बात करने लगा। उसकी चूत में लंड पेलने के बाद मुझे यूं लग रहा था जैसे में किसी जंग लगे दरवाजे को खोल रहा हूँ। लेकिन आज तो मुझे किसी भी तरह अपना तेल डाल कर उस जंग लगे दरवाजे को फ्री करना ही था ताकि बाद में यह कभी भी आसनी से खुल जाए।

उसकी सख्त मुस्म्मियाँ चूसते और बातें करते-करते मैंने अपना सारा लंड उसकी चूत में जड़ तक उतार दिया। उसे चुची चुसवाने में पता ही नहीं चला कि कब लंड जड़ तक चला गया था।

अब मैं उसे धीरे-धीरे चोदने लगा। वो भी गर्म होने लगी और नीचे से अपनी गांड हिला-हिला कर चुदवाने लगी। अब मैं अपने लंड को पूरा सुपारे तक बाहर निकाल कर पूरा का पूरा उसकी चूत में अपना लंड पेल रहा था।

इस तरह 20 मिनट की धुआंधार चुदाई के बाद उसकी चूत ने अपना पानी छोड़ दिया और उसकी गर्मी से मेरे लंड ने भी अपना लावा उसकी बुर में उगल दिया।

अब हम एक-दूसरे की बाँहों में थक कर लिपट गए। ये मेरी पहली चुदाई की कहानी थी, कृपया अपना सुझाव ज़रूर भेजें.. अगली सेक्सी स्टोरी में मैं आपको बताऊँगा कि कैसे मैं उसकी सहेली को अपने लंड के नीचे लाया। [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!